ISRO

प्रोफेसर यू आर राव आईएएफ के हॉल ऑफ फेम-2016 में शामिल

प्रोफेसर यूआर राव, पूर्व अध्यक्ष, इसरो और सचिव, अंतरिक्ष विभाग, को इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉटिकल कांग्रेस-2016 के गौडलजरा, मेक्सिको में 30 सितंबर, 2016 को आयोजित समापन समारोह के दौरान इंटरनेशनल एस्ट्रोनॉटिकल फेडरेशन (आईएएफ) द्वारा प्रतिष्ठित "2016 आईएएफ हॉल ऑफ फेम" में शामिल किया गया, प्रतिष्ठित अंतरिक्ष वैज्ञानिक, उद्योग पति, प्रशासक और पेशेवर मेहमानों ने इसमें भाग लिया।

प्रो राव को प्रशस्ति पत्र प्रदान करते समय इस प्रकार उद्धृत किया गया: "प्रो यू.आर. राव को एतद्द्वारा भारत में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के विकास में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए और बड़े पैमाने पर विकासशील देशों के साथ मिलकर अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी का अधिक से अधिक लाभ देने और दुनिया को साझा करने.... के प्रति उनके अथक प्रयासों के लिए प्रतिष्ठित आईएएफ हॉल ऑफ फेम-2016 में शामिल किया जाता है "।

प्रोफेसर यूआर राव, अध्यक्ष, भौतिक अनुसंधान प्रयोगशाला, अहमदाबाद की शासी परिषद, अंतरराष्ट्रीय स्तर पर एक प्रसिद्ध अंतरिक्ष वैज्ञानिक है जिन्होंने अपने 1960 में कैरियर की शुरुआत के बाद से भारत में अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के विकास में खासकर संचार और प्राकृतिक संसाधनों के सुदूर संवेदन के व्यापक उपयोगों में योगदान दिया है । प्रो राव भारत के अंतरिक्ष और उपग्रह क्षमताओं के सृजन और देश के विकास के लिए उनके उपयोग के लिए जिम्मेदार है।

प्रो राव ने 1972 में भारत में उपग्रह प्रौद्योगिकी की स्थापना के लिए जिम्मेदारी उठाई । उनके मार्गदर्शन में 1975 में पहला भारतीय उपग्रह 'आर्यभट्ट' के साथ शुरुआत हुई, 20 से अधिक उपग्रहों का  डिजाइन, संविरचन, और प्रमोचन किया गया। प्रोफेसर राव ने भारत में रॉकेट प्रौद्योगिकी के विकास को भी त्वरित गति प्रदान की, जिसके परिणामस्वरूप 1992 में एएसएलवी रॉकेट और परिचालन पीएसएलवी प्रमोचन यान का सफल प्रक्षेपण किया गया । उन्होंने सदा प्रसारण, शिक्षा, मौसम विज्ञान, सुदूर संवेदन और आपदा चेतावनी के लिए अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के उपयोग को बढ़ावा दिया है। प्रोफेसर राव के विभिन्न पत्रिकाओं में 360 से अधिक वैज्ञानिक और तकनीकी पत्रों में लेख प्रकाशित किए गए हैं, उन्हें पद्म भूषण पुरस्कार, भारत सरकार के बहुत ही प्रमुख नागरिक सम्मान सहित कई सम्मान और पुरस्कार प्राप्त हुए हैं। 2013 में, प्रोफेसर यू आर राव को "सैटेलाइट प्रोफेशनल्स सोसायटी इंटरनेशनल' वाशिंगटन में प्रतिष्ठित, सैटेलाइट हॉल ऑफ फेम में शामिल किया गया था।

            Citation

Archive of Updates from ISRO

मई 18, 2017 ISRO Receives Indira Gandhi Prize for Peace, Disarmament and Development for 2014
मई 18, 2017 आईयूसीएए, पुणे में एस्ट्रोसैट सहायता सेल (एएससी) स्थापित किया गया है
मई 09, 2017 जीएसएलवी एफ09 / जीसैट-9 - महामहिम राष्ट्रपति जी का संदेश (अंग्रेजी)
मई 08, 2017 पूर्व और पश्चिम रिफ्लेक्टर का प्रस्तरण 08 मई, 2017 को क्रमशः 08:15 बजे आईएसटी और 09:30 बजे आईएसटी पर सफलतापूर्वक पूरा किया गया है।
मई 08, 2017 दक्षिण एशिया सैटेलाइट के तीसरे कक्षा उत्थान प्रचालन को लैम इंजन प्रज्वलन द्वारा सफलतापूर्वक 445.8 सेकंड के लिए 06:51:52 पूर्वाह्न 08 मई, 2017 से किया गया
मई 07, 2017 दूसरे लैम प्रज्वलन से कक्षा निर्धारण परिणाम हैं: अपभू X उपभू ऊंचाई बदलकर 35858 किमी X28608 किमी हो गया। झुकाव 0.755 डिग्री है कक्षीय अवधि 20घंटे 58मिनट है ।
मई 07, 2017 दक्षिण एशिया सैटेलाइट का द्वितीय कक्षा उत्थान लैम इंजन के प्रज्वलन द्वारा 07 मई 2017 को 09.30 बजे से 3529.7 सेकेंड के लिए सफलतापूर्वक किया गया है।
मई 06, 2017 लैम इंजन द्वारा दक्षिण एशिया उपग्रह का पहला कक्षा उत्थान करने का काम सफलतापूर्वक किया गया
मई 05, 2017 भारत ने जीसैट-09 दक्षिण एशिया सैटेलाइट का सफलतापूर्वक प्रमोचन किया
मई 03, 2017 Announcement of Opportunity (AO) soliciting proposals for third AO cycle observations