ISRO

अनुसंधान हेतु समर्थित क्षेत्र

अंतरिक्ष कार्यक्रम से प्रासंगिक किसी भी क्षेत्र संबंधित प्रस्‍तावों को इसरो द्वारा सहायता दी जाती है  जिसके कुछ उदाहरण निम्‍नवत है:-

अंतरिक्षविज्ञान

आयनमंडल व चुंबकमंडल भौतिकी, मौसमविज्ञान, वायुमंडलीय गतिकी, भूभौतिकी, भूविज्ञान, खगोल शास्‍त्र, ब्रह्माण्‍ड विज्ञान, ताराभौतिकी, ग्रहीय व अंतरग्रहीय अंतरिक्ष भौतिकी तथा जलवायुविज्ञान।

अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी

रॉकेट व उपग्रह प्रौद्योगिकी, नोदन तंत्रों का अभिकल्‍पन व इष्‍टतमीकरण, ऊष्‍मागतिकी व अंतरिक्ष वाहन संबंधित ताप अंतरण समस्‍याएं, वाहनों तथा अंतरिक्ष यानों के लिए निर्देशन व नियंत्रण तंत्र, पॉलिमर रसायनविज्ञान, नोदन प्रौद्योगिकी, अल्पभारी संरचनाएं, उपग्रह ऊर्जा तंत्र, अंतरिक्ष इलैक्‍ट्रॉनिकी, अंतरिक्ष संचार तंत्र, कक्षीय यांत्रिकी, कंप्‍यूटर विज्ञान व नए पदाथों का विकास।

अंतरिक्ष अनुप्रयोग

भूसंसाधनों का सुदूर संवेदन, अंतरिक्ष संचार, उपग्रह भूगणितीय बिंब समाधन, मौसमविज्ञान व मौसम का पूर्वानुमान, अंतरिक्ष आधारित शिक्षण तथा पारिस्थितिकी।

 इसरो द्वारा समय-समय पर पुरानी परियोजनाओं के प्रलेख (सन् 2000 से 2015 तक) साझा कर उपरोक्‍त क्षेत्रों से संबंधित विशेष समस्‍याओं को दर्शाते उदाहरण उपलब्‍ध कराए जा सकते हैं। प्रस्‍तावकों को अनुसंधान विषय के चयन में इसे बंधन नहीं समझना चाहिए। अपने प्रस्‍तावों में तात्विक रूप से वैज्ञानिक विशेषता दर्शानी चाहिए। लेकिन, यदि इसरो के विचार में उसी प्रकार के किसी अन्य प्रस्‍ताव को पहले निधि-उपलब्‍ध करा दी गई है या वैसा ही कार्य पहले किया जा चुका है, तो वैसे प्रस्‍ताव को निधि उपलब्‍ध न कराने का अधिकार इसरो के पास सुरक्षित है।

 अधिक जानकारी के लिए

                www.sac.gov.in/respond

                www.vssc.gov.in > Activities > RESPOND

                www.nrsc.gov.in> Work with us> Collaborative Research

                www.prl.res.in> opportunities>respond programme

विश्वविद्यालय/संस्थान, परियोजना प्रस्ताव तैयार करने मे सहायक संग्रह पुस्तिका यहां पर डाउनलोड करें

डाउनलोड