ISRO

सी.जेड.टी.आई.

कैडमियम-जिंक-टैलूराईड प्रतिबिंबित्र (सी.जेड.टी.आई. ) वास्‍तव में 976 सेमी2 के संग्रहण क्षेत्र सहित 10-100 के.वो. ऊर्जा रेंज में ठोस एक्‍स-रे प्रतिबिंबिकी यंत्र है। यह एक ठोस स्थिति संसूचक है तथा संपूर्ण संसूचक समुच्‍चयन को चार एक समान और स्‍वतंत्र चतुर्थांश में बांटा गया है। प्रत्‍येक चतुर्थांश में, 15.25 सेमी2 वाले प्रत्‍येक क्षेत्र वाले 160 सी.जेड.टी. माडयूल का प्रयोग किया गया है। सी.जेड.टी. माडयूलों को 2.46एम.एम. ´ 2.46एम.एम. तथा 5एम.एम. चौड़ाई के पिक्‍सल आकार के साथ पिक्‍सलेट किया गया है। प्रत्‍येक पिक्‍सल को एक इलेक्‍ट्रानिक समुच्‍चयन के साथ जोड़ा गया है ताकि वह आपतित एक्‍स-रे प्रोटोन को परिणामी वोल्‍टेज के रूप में संसूचित कर सके। आंशिक ऊर्जा निक्षेप सहित अति उच्‍च ऊर्जा कण आसानी से सी.जेड.टी. संसूचक के माध्‍यम से पार हो सकता है तथा यह पृष्‍ठभूमि शोर का स्रोत है। पृष्‍ठभूमि अस्‍वीकृति के लिए सी.जेड.टी. संसूचक पैनल के तहत सिसीयम-आयोडाईड-थैलियम [सी.एस.आई.(टी.आई.)] क्रिस्‍टल का प्रयोग किया जाता है। 10-100 के.वो. की ऊर्जा रेंज में एक एक्‍स-किरण फोटोन संपूर्ण ऊर्जा को केवल सी.जेड.टी. में निक्षेपित कर सकता है जबकि एक उच्‍च ऊर्जा में चार्ज किया गया कण सी.जेड.टी. और सी.एस.आई. दोनों ही संसूचकों में ऊर्जा का निक्षेप कर सकता है। इसका प्रयोग इस बात का पता लगाने में किया जा सकता है कि कौन-सी घटनाएं एक्‍स-रे प्रोटोन के कारण तथा कौन सी चार्ज किए गए कणों के कारण घट रही है। इस संसूचक की संसूचक क्षमता 10-100 के.वो. रेंज में 95% है।

एक समांतरित्र को सी.जेड.टी. संसूचक समुच्‍चयन के ऊपर रखा गया है जोकि 4.6°´4.6° स्‍थल दृश्‍य सहित 0.2 एम.एम. मोटे एलुमिनियम के बीच दबे 0.07 एम.एम. मोटे टैनटैलियम शीट से बना हुआ है, ताकि संसूचक पर प्रोटोन का निकटतम समानांतर आपतन किया जा सके।  0.5 एम.एम. टैनटैलियम से बना एक कोड किया हुआ द्वारक मास्‍क (सी.ए.एम.) समांतरित्र के ऊपर रखा गया है। सी.ए.एम. में आयत/चौकोर के पूर्व-निर्धारित पैटर्न के छेद बने है जोकि सी.जेड.टी. पिक्‍सल के आकार से मेल खाते हैं तथा सी.ए.एम. 50% पार‍दर्शिता के साथ संसूचक पर परछाई दर्शाता है। (अंदाजन समान संख्‍या के बंद तथा खुले सेल) संसूचक के ऊपर स्रोत की सही स्थिति को दर्शाई जाने वाली परछाई के पैटर्न द्वारा निर्धारित किया जा सकता है। सी.जेड.टी. माडयूल 0°-15°से. के रेंज वाले तापमान में उत्‍तम निष्‍पादन देते हैं और अत: पैनल समुच्‍चयन द्वारा निरंतर निकाला जा सकता है। सी.जेड.टी.आई. का ज्‍यामितीय क्षेत्र तथा द्रव्‍यमान 976 से.मी.2  और 56 कि.ग्रा. है।

 

इस नीतभार का विकास टाटा आधारभूत अनुसंधान संस्‍थान (टी.आई.एफ.आर.), मुंबई तथा विक्रम साराभाई अंतरिक्ष केंद्र (वी.एस.एस.सी.), तिरुवनंतपुरम और आई.यू.सी.ए.ए. द्वारा किया गया है।